अस्पताल में 11 बच्चों की खोपड़ी और हड्डियां की गई बरामद, जानिए कैसे खुली पोल, पढ़िए पूरा मामला

Ticker

6/recent/ticker-posts

अस्पताल में 11 बच्चों की खोपड़ी और हड्डियां की गई बरामद, जानिए कैसे खुली पोल, पढ़िए पूरा मामला



अस्पताल में 11 बच्चों की खोपड़ी और हड्डियां की गई बरामद, जानिए कैसे खुली पोल, पढ़िए पूरा मामला



 एक 13 साल के नाबालिग बच्ची के साथ प्राइवेट अस्पताल ने अवैध अबॉर्शन किया, जिसके बाद जब पुलिस ने कार्रवाई की। पुलिस ने जांच में 11 नवजातों की खोपड़ी और शरीर की हड्डियां मिली। नवजात की हड्डियां और खोपड़ी को अस्पताल के पीछे गोबर गैस प्लांट के अंदर गड्ढा बनाकर छिपाया गया था। मामले में 13 साल की नाबालिग पीड़िता के गर्भपात के आरोप में महिला डॉक्टर को गिरफ्तार कर लिया गया है।
मामला महाराष्ट्र के वर्धा जिले का है।
दरअसल, आवी॔ का रहने वाला एक 17 वर्षीय नाबालिक लड़के ने 13 साल की नाबालिक बच्ची से बलात्कार के बाद गर्भवती हो गई। यह मामला रविवार (9 जनवरी) शाम दर्ज किया गया था। आवी॔ पुलिस ने नाबालिग के बच्चे का अबॉर्शन करने वाले मां-बाप और एक महिला डॉक्टर को गिरफ्तार किया है। आवी॔ पुलिस के मुताबिक डॉक्टर महिला ने 30,000 रुपये लेकर नाबालिक का अबॉर्शन किया था।

गौरतलब है कि 17 साल के लड़के का 13 साल की लड़की से अफेयर चल रहा था। 6 महीने से लड़का नाबालिक लड़की के साथ शारीरिक संबंध बना रहा था। इसी बीच युवती गर्भवती हो गई। जब लड़की ने घरवालों को बताया कि उसे पेट में दर्द हो रहा, तब ये बात सामने आई।

पीड़िता के पिता ने लड़के के पिता को घटना के बारे में बताया। लेकिन, लड़के के पिता ने लड़की वाले को समाज में बदनाम करने की धमकी दी। लड़के के पिता ने कहा कि वो चुपचाप गर्भपात कर ले, इसका पूरा खर्चा हम देंगे। बच्ची को डॉ. रेखा नीरज कदम के अस्पताल में भर्ती कराया गया। 30 हजार रुपये लेकर गर्भपात किया गया। मामले की गंभीरता को देखते हुए पुलिस ने महिला डॉक्टर को गिरफ्तार कर लिया है।

 पुलिस को जब और घटना का शक हुआ तो छानबीन शुरू करने लगी जहां हॉस्पिटल के पीछे गोबर गैस का गड्ढा होने का संदेह हुआ। पुलिस ने जांच में पाया कि 11 में से 8 खोपड़ी और 55 हड्डियां मिली। पुलिस ने हॉस्पिटल का रजिस्टर भी जब्त कर लिया है जिसमें 8 महीने से चल रही गर्भपात कि जानकारी पुलिस को मिली है। पुलिस ने बताया है कि सभी का डीएनए (DNA) कराया जाएगा।







क्रेडिट: पंजाब केसरी

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ