किसान परिवार की चार बेटियों ने पाया कामयाबी की मिसाल की कायम, दो प्रोफेसर तो दो जेल पुलिस में हुई चयनित

Ticker

6/recent/ticker-posts

किसान परिवार की चार बेटियों ने पाया कामयाबी की मिसाल की कायम, दो प्रोफेसर तो दो जेल पुलिस में हुई चयनित



किसान परिवार की चार बेटियों ने पाया कामयाबी की मिसाल की कायम, दो प्रोफेसर तो दो जेल पुलिस में हुई चयनित


मथुरा के सौंख के गांव भुंडान में किसान परिवार की चार बेटियों ने एक साथ विभिन्न पदों पर चयनित होते हुए कामयाबी की मिसाल कायम की है। इसमें दो की नौकरी जेल पुलिस में लगी, जबकि दो बेटियां माध्यमिक और उच्च सेवा में प्रोफेसर बनी हैं।

गांव भुंडान में कप्तान सिंह और अर्जुन सिंह का संयुक्त परिवार है। दोनों भाइयों की चार बेटियों ने क्षेत्र में अपनी कामयाबी का झंडा बुलंद किया है।


बडे़ भाई कप्तान सिंह की बेटी रजनी कुंतल, वंदना कुंतल और रसना कुंतल ने फरवरी माह में एक साथ जेल पुलिस में कांस्टेबल के पद पर कामयाबी हासिल की थी। वंदना को पुलिस पुलिस की सेवा रास नहीं आई और प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारियों का दौर जारी रहा। एक माह बाद ही वंदना माध्यमिक शिक्षा में प्रवक्ता पद पर चयनित हो गई।

कप्तान सिंह के छोटे भाई अर्जुन सिंह की बेटी अर्चना कुंतल ने बहनों के साथ कदमताल करते हुए उच्च शिक्षा में सहायक प्रवक्ता के पद पर कामयाबी प्राप्त की है। पिछले सप्ताह जारी हुए परीक्षा परिणाम में अर्चना संस्कृत में सहायक प्रवक्ता के पद पर चयनित हुई हैं। अर्चना व वंदना ने संस्कृत की पढ़ाई गुरुकुल नजीबाबाद बिजनौर से की है। 

अर्चना कुंतल ने गुरुकुल के बाद दिल्ली विश्वविद्यालय से विभिन्न उपाधि ग्रहण की है। ये दोनों बहनें अपनी शिक्षा के साथ वेदों की विदुषी, संगीत, भाषण इत्यादि कलाओं में भी निपुण हैं। जबकि रजनी और रसना गांव में रहकर ही शिक्षा ग्रहण करती रही हैं। किसान परिवार की चार बेटियों की इस कामयाबी पर गांव को भी गर्व हो रहा है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ