जहां-जहां पैर पड़ेंगे राहुल गांधी के , वहां-वहां फूल बिछाएंगे ,20 नवंबर को बुरहानपुर से मध्यप्रदेश में प्रवेश करेगी भारत जोड़ो यात्रा, कांग्रेसियों में व्यापक उत्साह

Ticker

6/recent/ticker-posts

जहां-जहां पैर पड़ेंगे राहुल गांधी के , वहां-वहां फूल बिछाएंगे ,20 नवंबर को बुरहानपुर से मध्यप्रदेश में प्रवेश करेगी भारत जोड़ो यात्रा, कांग्रेसियों में व्यापक उत्साह

जहां-जहां पैर पड़ेंगे राहुल गांधी के , वहां-वहां फूल बिछाएंगे ,20 नवंबर को बुरहानपुर से मध्यप्रदेश में प्रवेश करेगी भारत जोड़ो यात्रा, कांग्रेसियों में व्यापक उत्साह


सुधांशु द्विवेदी, भोपाल/ नई दिल्ली। पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की राष्ट्रव्यापी भारत जोड़ो यात्रा जोरशोर से जारी है। देश के सामाजिक एवं राजनीतिक समीकरणों को कांग्रेस की ओर मोडऩे की दृष्टि से बेहद महत्वपूर्ण इस भार जोड़ो यात्रा के मध्यप्रदेश आगमन के मद्देनजर प्रदेश में इस यात्रा की तैयारी जोर शोर से चल रही है। मध्यप्रदेश में भारत जोड़ो यात्रा के पड़ाव के दौरान राहुल गांधी गुजरात में कांग्रेस के चुनाव प्रचार के लिये भी जाएंगे। ऐसे में इस भारत जोड़ो यात्रा से जन- जन के जुडऩे और कांग्रेस के सामाजिक एवं राजनीतिक आधार के और अधिक मजबूत होने के समीकरण स्पष्ट रूप से दिखाई दे रहे हैं। हिमाचल आर गुजरात दोनों ही राज्यों में एंटी इनकंबेंसी के व्यापक असर आर विभिन्न मोर्चों पर दोनों ही प्रदेशों में भाजपा सरकार की नाकामियों के कारण प्रचंड जीत के दावों के साथ कांग्रेसियों के हौसले बुलंद हैं। 
कांग्रेस नेता राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा 20 नवंबर को बुरहानपुर जिले के ग्राम बोदरली से मप्र में प्रवेश करेगी। वे महाराष्ट्र्र में जलगांव के जामोद से होते हुए 20 नवंबर को शाम 7.30 बजे बोदरली पहुंचेंगे। बोदरली मप्र-महाराष्ट्र की सीमा से लगा गांव है। इससे महज कुछ दूरी पर ही महाराष्ट्र का ग्राम करोली लगता है। 
राहुल गांधी कन्याकुमारी से कश्मीर तक कुल 3570 किलोमीटर की पैदल यात्रा कर रहे हैं। जब राहुल बोदरली पहुंचेंगे, तब तक वह यात्रा के 2000 किमी पूरे कर चुके होंगे। यात्रा के साथ-साथ 60 कंटेनर भी चल रहे हैं, जिन्हें खड़ा करने के लिए गांव में कांग्रेसी कार्यकर्ता की 10 एकड् कृषि भूमि को समतल किया जा रहा है। राहुल गांधी की इस यात्रा में हाल ही में कुछ परिवर्तन हुआ है। वे 20 नवंबर को बोदरली पहुंचकर 21 को आराम करेंगे। 22 को वे गुजरात पहुंचकर चुनाव प्रचार करेंगे। रात में वापस लौटेंगे और फिर 23 नवंबर को बोदरली से भारत जोड़ो यात्रा निकलेगी जो बुरहानपुर के ट्रांसपोर्ट नगर पहुंचेगी। यहां से यात्रा खंडवा की ओर रवाना हो जाएगी।  बताया गया है कि राहुल की यात्रा के साथ 60 कंटेनर चल रहे हैं। इन्हीं कंटेनर में राहुल गांधी समेत उनके साथ चल रहे लोग विश्राम करते हैं। इन्हें खड़ा करने के लिए गांव के बाहर 10 एकड़ कृषि भूमि को चिह्नित किया गया है। बताया गया है कि यह जमीन बुरहानपुर के संदीप मुंदड़ा और बोदरली के सुधीर रामराव पाटिल की है। दोनों ही कांग्रेस के कार्यकर्ता हैं। राहुल गांधी को मालवा और निमाड़ की संस्कृति से अवगत कराने के लिए अलग-अलग रंग रूप से स्वागत की तैयारियां की जा रही है। आदिवासी नृत्य मंडली भी अपनी प्रस्तुति देगी। राहुल गांधी का दोपहर का भोजन सेंट जेवियर स्कूल में रखा गया है। उपनगर लालबाग में 3 क्विंटल फूलों से भारत जोड़ो यात्रा का स्वागत करने की तैयारी है। बोदरली गांव में प्रतिनिधिमंडल राहुल गांधी से मुलाकात करेंगे, जिसमें केला और गन्ना उत्पादक किसान, उद्योगपति, बुनकरों का दल उनसे चर्चा करेगा। पैदल यात्रा सेंट जेवियर स्कूल से शाम 4 बजे शुरू होकर ट्रांसपोर्ट नगर में आम सभा के रूप में परिवर्तित होगी। 
देशभर के विभिन्न शहरों से बुरहानपुर जिले में नेताओं का जमावड़ा रहेगा। प्रतिदिन स्थानीय के अलावा बाहरी नेता यहां विजिट कर रहे हैं। अब तक करीब दो दर्जन से अधिक केंद्रीय और प्रदेश स्तरी नेता बोदरली में व्यवस्थाओं का जायजा लेने आ चुके हैं। 
एसपी राहुल कुमार लोढ़ा के अनुसार कांग्रेस नेता राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा का अधिकृत कार्यक्रम आ गया है। उन्हें प्राप्त जेड प्लस सुविधा के अलावा पुलिस के करीब 600 से अधिक जवान वहां तैनात रहेंगे। बाहर से भी फोर्स बुलाई जा रही है। सुरक्षा व्यवस्था पुख्ता की जाएगी। 
राहुल गांधी के स्वागत के लिये खास तौर पर तैयारी की जा रही है। एक कांग्रेस नेता ने बताया कि जहां-जहां राहुल गांधी के पैर पड़ेेंंगे, वहां-वहां हम फूल बिछाएंगे। ग्राम बोदरली से लेकर असीरगढ़ तक रास्ते में जगह-जगह रंगोली सजाई जाएगी। करीब 1.50 लाख से अधिक लोग राहुल की अगवानी करेंगे। उनकी जगह-जगह आरती भी की जाएगी। उन्होंने बताया तीन पीढ़ी से हमारा गांधी परिवार से जुड़ाव है। इससे पहले भी इंदिरा जी, सोनिया जी यहां आ चुकी हैं। इतने बड़े नेता के आगमन की तैयारी की जिम्मेदारी हमें मिली है। राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा का हिमाचल तथा गुजरात विधानसभा चुनाव के दृष्टिगत कांग्रेस के लिये तो फायदेमंद माना ही जा रहा है। साथ ही 2023 में मध्यप्रदेश सहित करीब 10 राज्यों के विधानसभा चुनाव एवं 2024 के लोकसभा चुनाव में भी कांग्रेस को बंपर राजनीतिक फायदे की उम्मीद जताई जा रही है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ